Ajit Doval Biography in Hindi India’s James Bond

Ajit Doval India’s James Bond Biography in Hindi | National Security Advisor | Pakistan History

दोस्तों आप सभी में से तो ज्यादातर लोगो ने तो जेम्स बांड के बारे में सुना होगा अगर आप जेम्स बांड के बारे में नहीं जानते है तो बता दे की ये एक काल्पनिक  सीक्रेट सर्विस एजेंट है जिसको 1953 में  लेखक Ian Fleming ने बनाया था।  यह  सीक्रेट सर्विस एजेंट  कहानियों और फिल्मों में खासकर अपने कमाल के कारनामों के लिए  पहचाना जाता है।

ajit, अजीत डोभा, ajit doval

हालांकि भले ही  जेम्स बांड लेखक की कल्पना से ज्यादा कुछ भी नहीं है लेकिन भारत के अंदर एक ऐसे इंसान जरूर मौजूद है जिन्हे जेम्स बांड के जैसे काम करने के लिए जाना जाता है जी हां दोस्तों हम बात कर रहे है।   नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल(Ajit Doval) के बारे में जो कि फिलहाल तो एक राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के तौर पर काम कर रहे हैं लेकिन पिछले कुछ दशकों में खुफिया एजेंट के तौर पर उन्होंने देश के हित में जो काम किया है वह काबिले तारीफ है यहां तक कि कई सालों तक अजीत डोभाल (Ajit Doval) पाकिस्तान से खुफिया जानकारियां इकट्ठा करके भारत को भेजते थे।

 

और दोस्तों जम्मू&कश्मीर से धरा 370 हटाना हो, अमृतसर में ऑपरेशन Black Thander या प्लेन हाई जैकर से डील करना हो  हर काम में ही अजीत डोभाल (Ajit Doval) को सबसे आगे रखा जाता है।   ऑपरेशन के बारे  में आगे हम चर्चा करेंगे लेकिन पहले हम अजीत डोभाल (Ajit Doval)  को शुरू से जानने की कोशिश करते है।

Ajit Doval Biography in Hindi | 

दोस्तों इस कहानी की शुरुआत होती है 20 जनवरी 1945 से जब उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल (Pauri, Garhwal) जिले के एक होते से गांव अजीत डोभाल(Ajit Doval) का जन्म हुआ उनके पिता का नाम गुणानंद डोभाल था जो की खुद भी एक आर्मी ऑफिसर थे, शायद यही वजह थी की अजीत के अंदर शुरू से ही देशभक्ति कूट कूट कर भरी थी। साथ ही अजीत के पैदा होने के बाद ही भारत भी आजाद हो गया। 

दोस्तों अब यह एक ऐसा समय था की भारत को ताकतवर बनाने के लिए हर कोई अपना योगदान देना चाहता था।  इन्ही सभी माहौल में पीला बड़े अजीत भी अपनी शुरूआती पढाई अजमेर मिलिट्री पब्लिक स्कूल से की   पूरी करने के बाद से 1967 में university of Agra से Economic की डिग्री हासिल की।

अजीत की सोच बड़ी थी क्यूंकि अगर वो चाहते तो कोई आम नौकरी वो उस समय कर सकते थे, लेकिन देश  करने किये उन्होंने IPS अफसर बनने का सोचा और फिर एक साल की तैयारी के बाद 1968 में केरल IPS बैच के लिए select भी हो गए।  फिर अगले चार सालों तक देश के हित  में बहुत सारे काम किए।  1972  अजीत डोभाल (Ajit Doval) IB यानि Intelligence Bureau से जुड़ गए, यहाँ पर काम करते समय बहुत सारी जानकारी भारत को दी। दोस्तों अजीत डोभाल ने भारत  के ख़ुफ़िया एजेंट के तौर पे पाकिस्तान में 7 साल तक काम भी किया।

ajit doval

अपने कार्यकाल के दौरान डोभाल ने भारतीय सुरक्षा एजेंसी (INDIAN SECURITY AGENCY) की बहुत मदद की।  इसके अलावा 1971 से लेकर 1999 तक भारत के हर प्लेन हाई जैकिंग में अजीत डोभाल (Ajit Doval) ने ही हाई जैकर्स से डील की। आपको बता दे 1999 में हुए कंधार प्लेन हाई जैक के वक्त भी 3 लोग के साथ हाई जैकर्स से खुद ही मिलने गए थे। इसके अलावा 1988 में जब अमृतसर के स्वर्ण मंदिर पर कुछ आतंकियों ने कब्ज़ा कर लिया था तब यहाँ पर आम लोगो को बचने ले लिए ऑपरेशन Black  Thundar चलाया गया था, इस ऑपरेशन का नेतृत्व भी अजीत डोभाल ही कर रहे थे।

 

इसके अलावा डोभाल ने पूर्वोत्तर भारत में हुए सेना के ऊपर हुए हमले के बाद से सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाई और भारतीय सेना सीमा पर मंयमर में करवाई कर उग्रवादियों को मार गिराया था। और दोस्तों 1996 में अजीत डोभाल (Ajit Doval) के सटीक निर्णयों की वजह से कश्मीर में चुनाव की नींव राखी गयी। अजीत डोभाल IB में रहते हुए Multi Agency Centreऔर Joint Task Force On Intelligence के founder और chairmen भी रह चुके है।  साथ ही 31 जुलाई 2004 से लेकर  31 जनवरी 2005 तक अजीत डोभाल IB के Director के पद पे भी काम कर चुके है।

 

यहाँ पर काम से उन्होंने रिटायरमेंट का फैसला ले लिया। लेकिन इस सच्चे देशभक्त की देशभक्ति इतनी जल्दी ख़त्म कहा होने वाली थी। रिटायरमेंट के बाद भी सुरक्षा के मुद्दे में हमेशा आगे रहा करते है।  आगे चलकर अजीत डोभाल (Ajit Doval)  के Experience को देख कर  2014 में उन्हे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (National Security Advisor) के तौर पे शामिल किया गया।  इस तरह अजीत डोभाल (Ajit Doval) एक बार फिर एक्शन में आ गए।  सबसे पहले ईरान में फसे 46 भारतीय नर्सों को वह से बहार निकालने का काम किया।

Amit Shah Biography in Hindi| Home Minister

2016 में पाकिस्तान में हुए  सर्जिकल स्ट्राइक  को प्लान करने का श्रेय अजीत डोभाल (Ajit Doval) जी को जाता है।  जब २०१९ में विंग कमांडर अभिनन्दन गलती से पाकिस्तान पहुंच गए थे तब अजीत डोभाल ही थे जो नियम कानून याद दिलाते हुए साफ़-साफ़ यह कह दिया था अगर अभिनन्दन को कुछ भी होता है तो भारत हर स्तिथि से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है।  हाल में ही जम्मू $कश्मीर से धरा 370 हटने के बाद से हालातों को काबू रखने में  अहम् भूमिका निभाई है।

और इस तरह 74 साल के हो जाने के बाद आज भी भारत की सेवा करते नजर आ रहे है। अगर दोस्तों अभी तक के उनके कारनामो को देखा जाये  तो उन्हे भारत का जेम्स बांड कहना कोई गलत बात नहीं है।

उम्मीद करते है आपको अजीत डोभाल (Ajit Doval) की यह लाइफ स्टोरी जरूर पसंद आई होगी। मिलते है जल्द ही एक नए आर्टिकल के साथ, आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद।

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.