Tilak Mehta 13 साल में करोड़ो का मालिक|Dabbawala Courier

Tilak Mehta  करोड़ो की कंपनी का मालिक 13 साल का बच्चा। 

आज हम ऐसे एक 13 साल के बच्चे के बारे में बात करेंगे जिसने अपनी सोच से लाखों लोगो को प्रभावित किया है, साथ ही उन सभी बच्चो के लिए इंस्पिरेशन बना है जो अपनी जिंदिगी में कुछ बड़ा करना का सपना देखते है और कुछ कर के दिखाना चाहते है। जी है हम बात कर रहे है 13 की उम्र  में खुद का स्टार्टअप (STARTUP) करने वाले Tilak Mehta के बारे में। जिनहोंने इस बात को बखूबी सच साबित कर के दिखाया है की “उम्र कभी भी प्रतिबा की मौहताज नहीं होती है “

कौन है ये Tilak Mehta?

तिलक मेहता एक 13 साल का मुंबई का लड़का है, जो “मुंबई में घरोडिया इंटरनेशनल स्कूल, घाटकोपर” नामक एक उपनगरीय स्कूल की कक्षा आठवीं में पढ़ता है। उनके पिता विशाल मेहता भी लॉजिस्टिक आधारित कंपनी से जुड़े हैं। तिलक की एक जुड़वाँ बहन तन्वी और माँ काजल मेहता एक गृहिणी हैं। उन्होंने हाल ही में “2018 में इंडिया मैरीटाइम अवार्ड्स में युवा उद्यमी खिताब” जीीीतात

Tilak Mehta का शुरू का समय

जहा Tilak Mehta की उम्र के ज्यादातर बच्चे गेम खेलने में बिजी रहते है,  वही एक सफल बिज़नेस शुरू कर के दिखा दिया की लोगों की समस्या का समाधान करके कोई भी सफल बन सकता है। Tilak Mehta के जिस बिज़नेस की बात हम कह रहे है उसकी शुरुआत होती है 2017 से जब किसी आम बच्चे की तरह भी ही तिलक  गरोदिआ इंटरनेशनल स्कूल  में आठवीं क्लास में पढाई करते थे।है। जी है हम बात कर रहे है 13 की उम्र  में खुद का स्टार्टअप (STARTUP) करने वाले तिलक मेहता(Tilak Mehta) के बारे में। जिनहोंने इस बात को बखूबी सच साबित कर के दिखाया है की "उम्र कभी भी प्रतिबा की मौहताज नहीं होती है "

Startup की शुरुआत | Dabbawala Courier

हलाकि की एक दिन तिलक को अपने अंकल के यहाँ से किताब लाने की जरुरत पड़ गई जो की उनके अंकल मुंबई में दूसरी तरफ रहते थे, जब किताब लाने की बात अपने पापा से कहा तो वो अपने ऑफिस के काम में फसे होने की वजह से तिलक के बात पे ज्यादा धयान नहीं दिए।

अब आगे उनके पास कोई और रास्ता नहीं बचा तिलक ने कूरियर सर्विस से बुक मंगवाने  के बारे में सोचा लेकिन उसी दिन  डिलीवरी के लिए एक आम कूरियर कंपनी 300 रुपये तक ले रही थी जो की बहुत ज्यादा था। और तो और यह अमाउंट लगभग उस बुक के बराबर था।

यह  भी  पढ़े :  Kailasavadivoo Sivan Chandrayaan 2 के हीरो Rocket Man Biography|ISRO

सही कहा जाता है किसी बड़े आईडिया के पीछे जरूर कोई समस्या छुपी होती है। Tilak Mehta ने सोचा इसी समस्या से मुंबई में लाखों लोग परेशान रहते होंगे की एक सामान एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाने के लिए कूरियर सर्विस टाइम लेती है, वही अगर सामान उसी दिन पहुंचाना हो तो उसके लिए कूरियर वाले सर्विस तो प्रोवाइड करते है लेकिन बहुत ज्यादा पैसा लेती है। 

वही अब PAPER N PARCELS के माध्यम  डिलीवरी  कराने पर 40 रुपये ही खर्च करना पड़ता है। इस कंपनी की शुरुआत जुलाई 2018 में हुआ और अब तक यह कंपनी  ने 1 लाख 30 हजार से ज्यादा पार्सल सफलतापूर्वक पहुँचा चुके है, साथ ही इस बच्चे ने सैकड़ो लोगो को रोजगार भी दिया। तिलक मेहता का कहना है इस सर्विस को मुंबई के अलावा पुरे भारत में लांच करने की तैयारी में हैं।

लोगों को काम से काम पैसा खर्च करके जल्द से जल्द पार्सल मिले इसी विचार पे तलाक मेहता ने अपना स्टार्टअप करने का सोचा।  फिर इस बिज़नेस को प्लान करते समय Tilak Mehta के दिमाग में सबसे पहले आए मुंबई के डिब्बे वाले  जो की मुंबई के लाइफलाइन कहे जाते है क्यूंकि कुछ भी लेट हो जाये लेकिन डिब्बे वाले टाइम के बहुत  पक्के होते है, साथ ही इनके नेटवर्क भी पुरे मुंबई भर में फैले हुए होते है।

यह भी पढ़े : PUBG के कुछ रोचक बातें और सफलता की कहानी

डिब्बे वाले को देख कर Tilak Mehta के मन में विचार आया की इस नेटवर्क का इस्तेमाल करके खाने की चीज़ो के अलावा और भी चीज़ो  को डिलीवर किया जा सकता है और फिर इस प्रोजेक्ट पे काम करने के लिए तिलक ने डिब्बे वाले को बेहतर ढंग से समझने के लिए उनके साथ टाइम बिताया।

Tilak Mehta, PAPER N PARCELS, Dabbawala Courier

 

यह  भी  पढ़े : Mumbiker Nikhil Biography| Nikhil Sharma |Indian Vlogger

 फिर अपने बेटे का लगन देखे हुए तिलक के पिता विशाल मेहता ने उनका साथ निभाया और फिर सब कुछ समझने के बाद “PAPERS N PARCELS” नम से अपना एप्प बनवा कर अपना स्टार्टअप की शुरुआत की। 

लेकिन इस  एप्लीकेशन को बनाने के लिए दिन रात मेहनत  करने के बाद भी 8 महीने का टाइम लग गया।  जब एप्प्लकेशन मार्किट में आया तो धूम मचने शुरू कर दिया।  क्युकी उसी दिन डिलीवरी  कराने के लिए आम आदमी को 300 रुपये तक देने पड़ते थे  वही अब PAPER N PARCELS के माध्यम  डिलीवरी  कराने पर 40 रुपये ही खर्च करना पड़ता है।

इस कंपनी की शुरुआत जुलाई 2018 में हुआ और अब तक यह कंपनी  ने 1 लाख 30 हजार से ज्यादा पार्सल सफलतापूर्वक पहुँचा चुके है, साथ ही इस बच्चे ने सैकड़ो लोगो को रोजगार भी दिया। Tilak Mehta का कहना है इस सर्विस को मुंबई के अलावा पुरे भारत में लांच करने की तैयारी में हैं। Tilak Mehta, PAPER N PARCELS,Dabbawala Courier

[the_ad id=”729″]

अंत में बस यही कहना चाऊंगा जिस तरह से तिलक ने  उम्र में एक सफल कंपनी की शुरुआत की वह काबिलेतारीफ है और वह हम सभी के लिए इंस्पिरेशन बन कर सामने आए उम्मीद है आपको Tilak Mehta के बारे में जानकर अच्छा लगा होगा। यदि आपके पास किसी भी प्रकार की समस्या या सुझाव हो तो निचे कमेंट करे, आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। 

 

Leave a Comment