Sushma Swaraj Biography|सुषमा स्वराज का जीवन परिचय

(Sushma Swaraj) सुषमा स्वराज 

किसी भी भारतीय नागरिक कहीं भी विदेश में फंसा हो उसके एक Tweet पर हर तरह की कोशिश करके उसे वहाँ से बहार निकालना वो अपना पहला कर्तव्य समझती थी। भारत ही नहीं उन्होंने तो पाकिस्तान के कितने मरीजों को को जल्दी VISA दिला कर उनकी बहुत मदद की। जी हाँ दोस्तों  हम बात कर रहे है हम सब की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहने वाली  भाजपा की नेता सुषमा स्वराज जी के बारे में। सुषमा स्वराज जी 67 साल की उम्र में हम सभी को छोड़ कर चली गई लेकिन वो हमारे दिल में हमेशा रहेंगी, उनके निधन से पूरे देश में शोक में है।

इंदिरा गांधी जी के बाद सुषमा स्वराज भारत की दूसरी महिला थी, जिन्होंने राजनीति के अंदर कदम रखा। सुषमा जी पहले सुप्रीम कोर्ट में वकील भी रह चुकी है। तो चलिए जानते है सुषमा जी की लाइफ स्टोरी और उनकी सफलता के बारे में।

इस कहानी की शुरुआत होती है 14 फरवरी 1952 में जब पंजाब के अंबाला कैंट में सुषमा जी का जन्म हुआ। उनके पिता का नाम हरिदेव शर्मा था जो की राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रमुख सदस्य थे, और उनकी माता का नाम श्रीमती लक्ष्मी देवी था। सुषमा स्वराज ने  अपने कॉलेज पढ़ाई अम्बाला छावनी के एस.डी कॉलेज से B.A किया B.A  की डिग्री लेने के बाद उन्होंने  पंजाब यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई पूरी की।

कॉलेज केपढ़ाई के दौरान सुषमा जी की सोच और सभी बात को तुरंत  कहने की आदत की वजह से उन्हें सर्वोच्च वक्ता का सम्मान मिला। यही नहीं सुषमा स्वराज कॉलेज के दिनों में NCC की सर्वोच्च कैडेट भी रही। सुषमा जी को लगातार 3 साल तक राज्य की सर्वोच्च वक्ता का सम्मान भी मिला।

 

सुषमा स्वराज  का व्यक्तिगत जीवन – Sushma Swaraj personal Life

 

सुषमा जी कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद से वकालत करना स्टार्ट कर दिया। उन्होंने ने वकालत की शुरुआत  सन 1973 में भारत के सर्वोच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में अभ्यास कर रही थी। बाद में वो एक वरिष्ठ वकील के रूप में अपराधिक क्षेत्र में  काम करना शुरू किया त्र की वकालत करते हुए सुषमा स्वराज जी ने  राजनीति में आने होने का बड़ा फैसला लिया। सुषमा स्वराज जी ने स्वराज कौशल जी से शादी कर ली, जो की सुषमा स्वराज  के साथ सुप्रीम कोर्ट में ही अधिवक्ता के पद पर कार्य करते थे। सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल सबसे कम उम्र में राज्यपाल का पद पाने वाले व्यक्ति है। वो मिजोरम के राज्यपाल बने थे

 

 

सुषमा स्वराजराजनैतिक सफ़र Sushma Swaraj Political Career

सुषमा स्वराज जी वर्ष 1970 में राजनीति अंदर शामिल हुईं, उन्होंने एबीवीपी (ABVP) के साथ मिलकर अपने राज्य हरियाणा से अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की।  इंदिरा गांधी जी की सरकार के खिलाफ  सुषमा जी ने कई जगह विरोध प्रदर्शन आयोजित किया था। उन समय देश में आपातकाल लगा हुआ था और जयप्रकाश नारायण आपातकाल के पुरजोर विरोधी थे।

आपतकाल लगने से लोगों की स्थिति को बहुत खराब हो चुकी थी। इस स्तिथि को देखते हुए सुषमा स्वराज जी ने भी जयप्रकाश नारायण के साथ आंदोलन में  हिस्सा लेने का फैसला किया । सुषमा स्वराज ने इस आन्दोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

आपातकाल का समय खत्म होने के बाद सुषमा जी का सफर शुरू हो गया। सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो गईं और आगे चलकर वो भाजपा में  राष्ट्रीय नेता के रूप में उभर कर आई। सुषमा स्वराज को राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता बनने का सम्मान भी मिल चूका है। सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) को पहली बार  1977 में  हरियाणा विधानसभा की सदस्य चुनी गई। वो 1977 से लेकर 1982 तक सदस्य थी।

जब वो विधानसभा में सदस्य चुनी गई, इस बीच में उन्हें हरियाणा सरकार में श्रम रोजगार मंत्री का पद सौंपा गया ।  सन 1987 में सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) को दोबारा  हरियाणा विधानसभा सदस्य चुना गया। इस बार उन्हें शिक्षा खाद्य और नागरिक मंत्री का पद सँभालने के लिए दिया गया।सुषमा स्वराज राजनैतिक सफ़र Sushma Swaraj Political Career

जब 1990 में सुषमा जी (Sushma Swaraj) पहली बार राज्यसभा की सदस्य चुन कर आई । इसके बाद साल 1996 में जनता ने  सुषमा (Sushma Swaraj) को लोकसभा सदस्य चुना। सन 1996 में BJP की  केंद्र सरकार बानी और उसमे सुषमा जी को सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय का विभाग सौंपा गया। इसके बाद सन  1998 में वह दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री भी बनी।

ISRO की कामयाबी जिन पर हर भारतीय को गर्व है|Chandrayaan 2 Moon Mission

Hima Das Golden Girl Biography|5 Gold Medals in 19 Days

लेकिन कुछ समय बीतने के बाद ही उन्होनें दिल्ली विधानसभा पद से इस्तीफा दे दिया और लोकसभा सदस्य का पद पर काम करना जारी रखा। इसके बाद सन  2003 में अटल बिहारी वाजपेयी जी की सरकार में उनको  दोबारा सूचना एंव प्रसारण मंत्री का विभाग दिया गया। इसके बाद  जब  में वापस से भाजपा की सरकार केंद्र में आई। तब सुषमा (Sushma Swaraj) की काबलियत को देखते हुए अहम मंत्रालय सौंपा गया था।

सुषमा जी (Sushma Swaraj) हरियाणा की विदिशा सीट से लोकसभा सदस्य चुनी गयी  थी। साथ ही विदेश मामलों में संसदीय स्थायी समिति की अध्यक्षा  थी। सुषमा जी (Sushma Swaraj) को उनकी Strong Personality के लिए जाना जाता था। जो गलत पर किसी के भी खिलाफ बोलने से हिचकती नहीं थी।

 6 अगस्त 2019 में 67 साल की उम्र में हार्ट अटैक की वजह से सुषमा जी का  एम्स  (AIIMS) में निधन हुआ। उनकी  तबियत पहले से कुछ ख़राब चल रही जिसकी वजह से उन्होंने चुनाव लड़ने के लिए भी मना कर दिया था ।

 6 अगस्त 2019 में 67 साल की उम्र में हार्ट अटैक की वजह से सुषमा जी का  एम्स  (AIIMS) में निधन हुआ।

9 बार सांसद रह चुकी सुषमा (Sushma Swaraj)की आम लोगों मे अपार लोकप्रिय थीं। सुषमा स्वराज जी दिल्ली की सन 1977 में सबसे कम उम्र की राज्यमंत्री बनी थीं। विदेश मंत्री सुषमा (Sushma Swaraj) के नाम कई रिकॉर्ड दर्ज है। सुषमा स्वराज(Sushma Swaraj) तीन साल तक राज्य की प्रवक्ता रही है। राजनीति में आने के बाद सुषमा स्वराज भारतीय जनता पार्टी की पहली राष्ट्रीय मंत्री बनी। इसके बाद वो भाजपा की पहली महिला राष्ट्रीय प्रवक्ता भी बनी। वे कैबिनेट में भाजपा की पहली महिला मंत्री थी

 

सुषमा स्वराज(Sushma Swaraj) द्वारा रचे गए इतिहास

   (Sushma Swaraj)  सुषमा स्वराज द्वारा रचे गए इतिहास

  • हरियाणा में BJP में  वो सबसे कम उम्र की प्रभारी रही हैं

 

  • हरियाणा में सुषमा जी सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री बनीं।

 

  • सुषमा जी दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री थी।

 

  • सुषमा जी BJP में पहली महिला कैबिनेट मंत्री बानी थी।

 

  • सुषमा जी अकेली एक ऐसी महिला संसद जिन्हें आउटस्टैंडिंग पार्लियामैंटेरियन का पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

 

  • हरियाणा राज्य में हिन्दी साहित्य सम्मेलन की चार साल तक अध्यक्ष का पद संभाला।

 

  • सुषमा जी और उनके पति कौशल की उपलब्धियों को Limca Book Of Record में दर्ज किया गया है।

 

  • महज 20 साल की उम्र में ही सुप्रीम कोर्ट, भारत की सबसे बड़े कोर्ट में वकालत का अभ्यास शुरू कर दिया था ।

 

  • विदेश मंत्री बनने के बाद से सुषमा जी Twitter पे बहुत ज्यादा एक्टिव रहती थी कोई भी नागरिक अगर विदेश में कही भी फंसा है उसके Tweet करने पर जरूर जवाब देती थी। BJP

उम्मीद है दोस्तों सुषमा (Sushma Swaraj) जी के लाइफ स्टोरी के बारे में जान कर अच्छा लगा होगा, सुषमा जी हमारे दिल में हमेशा जिंदा रहेंगी। आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.