Hima Das Golden Girl Biography|5 Gold Medals in 19 Days

Hima Das  Golden Girl

दोस्तों चैंपियंस तो अलग ही होते है, भीड़ से अलग सोचते है और जब यह सोच रंग लती है तो बनता है इतिहास ऐसी ही एक चैंपियन बन कर उभरी है “हिमा दास” क्यूंकि महज 19 दिनों के अंदर ही 5 गोल्ड मैडल अपने और देश के नाम करना सपना सा लगता है लेकिन इसे हकीकत में बदला है गोल्डन गर्ल (Golden Girl) के नाम से पहचाने जाने भारतीय एथलीट हिमा दास ने।

जो तो गरीब साधारण किसान के यहाँ गांव में पैदा हुई लेकिन इसी गांव में पैदा होने वाली लड़की ने असाधारण और चौकाने वाला कारनामा कर दिखाया है और यही वजह है की आज भारत में हर जगह हिमा दास की ही चर्चा है।

दोस्तों आज के इस  आर्टिकल में हम जानेंगे “हिमा दास” की पूरी लाइफ स्टोरी के बारे में और उनकी सफलता के बारे में की कैसे एक गांव की लड़की ने जिताया भारत को 5 गोल्ड मैडल। Hima Das Golden Girl

Hima Das s Golden Girl

Hima Das का शुरूआती समय

इस कहानी की शुरुआत होती है 9 जनवरी 2000 में जब असम राजय के डिंग (Ding) नाम के गांव में हिमा दास का जन्म हुआ। हिमा के पिता का नाम रंजीत दास जो की साधारण से किसान है इसके अलावा उनकी माँ का नाम जोनली दास है जो की खेती में अपने पति का हाथ बटाती और घर को भी संभालती थी।  Hima Das Golden Girl

अगर हिमा के परिवार के सभी लोगों संख्या देखी जाए तो वो है 16 इसीलिए आमदनी काम और खर्चे ज्यादा होने की वजह से उनके माता-पिता को हमेशा गरीबी का सामना करना पड़ा।  वही अगर देखा जाए हिमा दास के पढ़ाई लिखाई की तो हिमा  ने अपनी शुरूआती पढ़ाई गांव के सरकारी स्कूल से की। स्कूल की पढ़ाई के दौरान Hima Das को दौड़ नहीं फुटबॉल का शौक था। वो गांव के लड़को के साथ स्ट्राइकर पर खेला करती थी। लेकिन एक बार स्कूल के टीचर की सलाह पर उनहोंने दौड़ने शुरू कर दिया और फिर एक स्प्रिंट रनर के तौर अच्छा करने लगी । India’s Golden Girl

इसी कड़ी में 2017 में हिमा दास गुवाहाटी (Guwahati) के एक कैंप में हिस्सा लेने के लिए आई और तभी उन पर नजर पड़ी निपुण दास की जो की एक कोच की पोस्ट पे काम किया करते  थे।  इस कम्पटीशन में उन्होनें देखा Hima Das सस्ते जूते पहनने के बाद भी सबसे तेज दौड़ रही थी, तभी वो समझ चुके थे की हिमा के अंदर वह काबिलियत है जिससे वो भारत का नाम रोशन कर सकती है।  Hima Das Golden Girl.Hima Das  Golden Girl

 यह सब देखने के बाद से निपुण हिमा के गांव गए और उनके माता-पिता से निवेदन किया की वो हिमा हो उनके साथ ट्रेनिंग के लिए गुवाहाटी जाने दे। खर्चों के बारे में सोच के हिमा के पिता ने पहले तो मना कर दिया लेकिन जब निपुण ने कहा हिमा के रहने और खाने का खर्च वो उठाएँगे तब हिमा दास के पिता भेजने के लिए तैयार हो गए।और फिर ट्रेनिंग के दौरान पहले दिन से ही हिमा दास का स्टैमिना देखने लायक था क्यूंकि फूटबाल जैसे खेल में गांव के आस-पास इतनी सारी टूर्नामेंट खेल चुकी थी की उन्हें अनुकूलित (Adjust) करने में कोई समस्या नहीं हुई। Hima Das Golden Girl

Hima Das Golden Girl

सबसे पहले कोच निपुण ने हिमा को 200 मीटर की रेस के लिए तैयारी कराई लेकिन उन्होंने देखा और समझा की वो 400 मीटर के लिए परफेक्ट है, और  फिर पूरी तैयारी करने के बाद से हिमा ने अप्रैल 2018 में ऑस्ट्रेलिया में हो रहे कॉमन वेल्थ गेम्स (CommonWealth Games) में 4×400 मीटर रिले के अंदर भारत को रिप्रेजेंट किया लेकिन उनकी टीम फाइनल के अंदर सातवें (7th ) स्थान तक पहुँच सकी। “Hima Das Golden Girl

ISRO की कामयाबी जिन पर हर भारतीय को गर्व है|Chandrayaan 2 Moon Mission

आगे चलकर Tampere Finland, World U20 Championship 2018 में 400 मीटर रेस के अंदर फाइनल जीत कर गोल्ड मैडल हासिल किया। फिर यहाँ से शुरू हो गयी हिमा दास के मैडल की कहानी क्यूंकि आगे चलकर 2018 में ही Jakarta, Indonesia में होने वाले Asian Games में भी 2 गोल्ड और 1 सिल्वर मैडल अपने नाम कर ली थी।इस तरह से हिमा दास भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन करने लगी। Hima Das Golden Girl

दोस्तो अभी हाल में ही 2, 7, 13, 17,और  20 जुलाई को महज 19 दिनों के अंदर 5 गोल्ड मैडल जीत कर पूरी दुनिया में अपना लोहा मनवाया है।  यह मेडल्स उन्होंने Poland और cZech Republic में होने वाले अलग अलग टूर्नामेंट में हासिल किया है। दोस्तों पिछले साल 25 सितम्बर 2018 को हिमा दास को भारत सरकार द्वारा अर्जुन अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चूका है। Hima Das Golden Girl

 दोस्तों अंत में बस यही कहना चाहता हूँ हिमा दास ने जिस तरह कठिन परिस्तिथियों का सामना करके देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया वह काबिले तारीफ है, और हम सब उम्मीद करते है आगे चलकर और भी गोल्ड मैडल भारत में लाएंगी। उम्मीद है दोस्तों आपको हिमा दास के जीवन की कहानी” Hima Das Golden Girl” पढ़ कर अच्छा लगा होगा आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। Hima Das Golden Girl

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.